दलित लड़की से धक्केशाही, पुलिस कार्रवाई को नहीं तैयार


गांव मोहलगुआरा की रहने वाली दलित लड़की से उसी गांव के एक नौजवान द्वारा जबरदस्ती करने की कोशिश का मामला आज एस.सी. आयोग के मैंबर दिलीप सिंह पांधी के पास पहुंच गया, जिसमें लड़की ने आरोप लगाया कि उसी के गांव का एक नौजवान जोकि उच्च जाति से संबंधित है, उससे दो-तीन बार जबरदस्ती करने की कोशिश कर चुका है। पहले तो गरीबी और सामाजिक डर के कारण लड़की ने उसकी शिकायत कहीं नहीं की पर जब नौजवान अपनी हरकतों से बाज नहीं आया तो उसने थाना भादसों के मुख्य अधिकारी को उसकी शिकायत की पर पुलिस द्वारा कोई सुनवाई नहीं की गई।
पीड़ित लड़की ने एस.सी. आयोग के सदस्य दिलीप सिंह पांधी को बताया कि उसके पिता की 1994 में मौत हो चुकी है और वह 12वीं कक्षा में पढ़ती है। पिता की मौत होने के कारण वह अपने नानके गांव मोहलगुआरा में ही रहती है।
पीड़ित लड़की के अनुसार उसने हर कहीं इंसाफ के लिए गुहार लगाई पर उसकी कहीं भी सुनवाई नहीं की गई। थक-हार कर उसको एस.सी. आयोग की शरण में जाना पड़ा। लड़की के साथ उसका नाना भी था। शिकायत लेने के बाद एस.सी. आयोग के सदस्य दिलीप सिंह पांधी ने कहा कि दलित लड़की को हर हाल में इंसाफ दिलाया जाएगा। उन्होंने कहा कि जिस अधिकारी द्वारा उसकी सुनवाई नहीं की गई उसके विरुद्ध भी कार्रवाई की सिफारिश की जाएगी।
श्री पांधी का कहना था कि एस.सी. आयोग दलितों के अधिकारों की रक्षा के लिए ही बनाया गया है और वह किसी भी हालत में दलित लड़की के साथ नाइंसाफी नहीं होने देंगे। दलित लड़की के साथ दुर्व्यवहार करने वाले लड़के के खिलाफ हर हाल में कार्रवाई की जाएगी।
Advertisements
%d bloggers like this: