दलित छात्राओं से टॉयलेट साफ कराने का मामला गर्माया


जिला हिसार के गांव रावलवास खुर्द के गवर्नमेंट गर्ल्स हाई स्कूल में कथित रूप से हेड टीचर की ओर से दलित छात्राओं से टॉयलेट साफ करवाने का मामला दिल्ली पहुंच गया है। दलित संगठनों ने हेड टीचर की इस जातीय भेदभाव वाली करतूत की कड़े शब्दों में निंदा की है। शनिवार को मामले की जानकारी लेने के लिए दिल्ली से राष्ट्रीय दलित महिला आंदोलन की अध्यक्ष व दलित साहित्यकार रजनी तिलक, राष्ट्रीय महासचिव सुमेधा बौद्ध व अन्य गांव रावलवास खुर्द पहुंचे। गांव में पहुंचने के बाद दलित संगठनों के इन प्रतिनिधियों ने ग्रामीणों व दलित स्कूली छात्राओं को एकत्रित कर बातचीत की।

ग्रामीण अनिल कुमार ने टीम को बताया कि स्कूल की हेड टीचर ने दलित छात्राओं को कहा था कि तुम सब फ्री की स्कॉलरशिप लेती हो तो जाकर टॉयलेट साफ करो। इसके बाद दलित छात्राओं से टॉयलेट साफ करवाया गया। इसके बाद स्कूल की सभी वर्गों की छात्राओं ने हेड टीचर के कृत्य का विरोध किया और यह बात ग्रामीणों को बताई। आरोप है कि ग्रामीणों ने जब इस मामले को लेकर हेड टीचर से बात करनी चाही तो टीचर ने ग्रामीणों व दलितों से अभद्र व्यवहार भी किया। ग्रामीणों का कहना है कि उन्होंने इसकी शिकायत प्रशासन से भी की गई, लेकिन अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई।

दलित साहित्यकार रजनी तिलक व सुमेधा बौद्ध ने इस घटना पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि अब यह मामला केवल गांव तक सीमित नहीं रहा है। दिल्ली में भी इस घटना को लेकर प्रदर्शन हुआ है।

Advertisements
%d bloggers like this: