दलित हत्याकांड: कोनगांव में रास्ता रोको आंदोलन


अहमदनगर जिला के पाथर्डी तालुका में हुए तिहरे दलित हत्याकांड के आरोपियों को गिरफ्तार करने की मांग को लेकर भिवंडी-कल्याण रोड स्थित कोनगांव में रास्ता जाम कर आंदोलन किया गया। इस हत्याकांड से गुस्साए लोगों ने कोनगांव पुलिस को एक ज्ञापन देकर हत्या की सीबीआई जांच कराकर हत्यारों को फांसी की सजा दिलवाने और उन्हें बचाने वाले पुलिस अधिकारियों को सस्पेंड कराने की मांग की।
अहमदनगर जिला के पाथर्डी तालुका के जवखेडे गांव में पिछले दिनों एक दलित परिवार के तीन सदस्य- संजय जाधव, उनकी पत्नी जयश्री जाधव व उनका बेटा सुनील जाधव की हत्या कर दी गई थी और उनकी लाश के टुकड़े करके गांव के ही एक कुएं में फेंक दिए गए थे। आंदोलन कर रहे दलित नेताओं का कहना है कि एक ही परिवार के तीन लोगों की सामूहिक हत्या करने वाले के आरोपियों के विरुद्ध पुलिस कार्रवाई करने के बजाए उन्हें बचाने में लगी हुई है।
पुलिस सहित राज्य सरकार द्वारा हत्यारों के विरुद्ध कोई ठोस कार्रवाई न करने से गुस्साए दलितों ने कोनगांव में रास्ता जाम कर आंदोलन किया, जिस कारण यहां घंटों तक जाम लगा रहा। आंदोलनकारियों ने कोनगांव पुलिस स्टेशन के सीनियर पुलिस इंस्पेक्टर बी.एम. काले को ज्ञापन देकर उक्त हत्याकांड की सीबीआई जांच कराकर हत्यारों को फांसी की सजा देने एवं हत्या के आरोपियों को पकड़ने में लापरवाही करने वाले अहमदनगर के पुलिस अधीक्षक व जिलाधिकारी को सस्पेंड करने की मांग की। साथ ही, उन्होंने इस तिहरे दलित हत्याकांड केस को चलाने के लिए ऐडवोकेट उज्ज्वल निकम की नियुक्ति करने और अहमदनगर जिला को दलित अन्याय अत्याचार ग्रस्त जिला घोषित करने की भी मांग की। तिहरे हत्याकांड का शिकार हुए दलित जाधव परिवार को 25 लाख रुपए की आर्थिक मदद कर उनका पुनर्वसन कराने की भी मांग की गई।

Advertisements
%d bloggers like this: