दलित समुदाय के बच्चों ने स्कूल आना छोड़ा


मंडी : सिराज हलके के राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला शारटी में पढ़ने वाले दलित समुदाय के विद्यार्थियों व उनके अभिभावकों को अब अगड़ी जाति के लोगों की ओर से गांव से तड़ीपार करने की धमकियां मिल रही हैं। इससे दलित समुदाय के बच्चे व उनके अभिभावक सहमे हुए हैं।

दलित समुदाय के कुछ विद्यार्थियों ने गत दिनों स्कूल में आयोजित एनएसएस शिविर के दौरान भोजन खाते समय स्कूल प्रबंधन पर जातिगत आधार पर भेदभाव का आरोप लगाया था। विद्यार्थियों ने अगले दिन इसकी शिकायत पुलिस थाना औट में दर्ज करवाई थी। शिकायत पर कार्रवाई करते हुए औट पुलिस ने विद्यार्थियों व स्कूल प्रबंधन के बयान कलमबद्ध किए थे। मामले की गंभीरता को देखते हुए उपनिदेशक उच्च शिक्षा मंडी सुशील पुंडीर ने इस प्रकरण की खुद अपने स्तर पर जांच का निर्णय लिया है। छुट्टियों के कारण विभाग की ओर से इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं हो पाई थी। इस बीच बसपा की मंडी जिला इकाई के प्रधान डॉ. मुंशी राम प्रेमी ने अगड़ी जाति के लोगों द्वारा जातिगत भेदभाव का शिकार हुए बच्चों व उनके अभिभावकों को डराने-धमकाने का आरोप लगाया है। बसपा का प्रतिनिधिमंडल शनिवार को शारटी स्कूल में पीड़ित बच्चों से मिलने व स्कूल प्रबंधन से इस मामले पर बातचीत करने गया था। इस दौरान अधिकांश पीड़ित बच्चे स्कूल से नदारद मिले। स्कूल में एक ही पीड़ित बच्चा मिला और वह भी मानसिक रूप से परेशान दिख रहा था। धमकी से तंग आकर शिकायतकर्ता विद्यार्थियों ने स्कूल आना छोड़ दिया है। पीड़ित विद्यार्थी ने प्रतिनिधिमंडल को बताया कि एनएसएस शिविर के दौरान सामान्य जाति के विद्यार्थियों ने साथ में भोजन करने व उनके हाथ से पानी पीने से मना कर दिया था। वह शिकायत लेकर प्रधानाचार्य के पास गए लेकिन कोई कार्रवाई न होने पर मजबूरन पुलिस थाना औट में शिकायत दर्ज करवानी पड़ी। प्रतिनिधिमंडल बाद में पुलिस अधीक्षक मंडी मोहित चावला से भी मिला और इस प्रकरण में आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की।

……………………

‘दैनिक जागरण के खुलासे के बाद मामला संज्ञान में आया है। 21वीं सदी में इस तरह की बातें सामने आना दुर्भाग्यपूर्ण है। मैं खुद इस मामले की अपने स्तर पर जांच करूंगा। अगर कोई दोषी पाया गया तो कड़ी कार्रवाई होगी।”

-सुशील पुंडीर, उपनिदेशक उच्च शिक्षा मंडी

…………………..

विद्यार्थियों की शिकायत पर औट पुलिस मामले की जांच कर रही है। बसपा का प्रतिनिधिमंडल भी उनसे मिला है। दोषी बख्शे नहीं जाएंगे।

-मोहित चावला, पुलिस अधीक्षक, मंडी

……………………..

अगड़ी जाति के लोगों की धमकी के कारण शिकायतकर्ता बच्चे व उनके अभिभावक सहमे हुए हैं। पीड़ित बच्चे डर के मारे स्कूल नहीं आ रहे हैं। प्रशासन इस मामले में जल्द कार्रवाई करे।

-डॉ. मुंशी राम प्रेमी, जिलाध्यक्ष बसपा मंडी

Advertisements
%d bloggers like this: